दिवाली से पहले FPI ने दिया झटका, शेयर मार्केट से निकाले 6,000 करोड़ रुपये, जानिए वजह

विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (FPI) ने अक्टूबर महीने में अब तक भारतीय शेयर बाजारों से लगभग 6,000 करोड़ रुपये निकाले हैं।

डॉलर के मुकाबले रुपये में गिरावट ने इस बहिर्वाह को बढ़ावा दिया। इस तरह एफपीआई इस साल अब तक कुल 1.75 लाख करोड़ रुपये निकाल चुके हैं।

भारतीय शेयर बाजार में हमेशा विदेशी निवेशकों का दबदबा रहा है। भारतीय बाजार की दिशा तय करने में विदेशी निवेशकों की अहम भूमिका रही है।

जानिए इंडियन मार्केट से FPIs क्यों निकाल रहे हैं ?

सितंबर में एफपीआई ने भारतीय बाजारों से करीब 7,600 करोड़ रुपये निकाले। डॉलर के मुकाबले रुपये में गिरावट और अमेरिकी फेडरल रिजर्व के सख्त रुख से एफपीआई के बीच बिकवाली हुई।

अपसाइड की कनिका अग्रवाल का कहना है कि भारत से जुड़े किसी जोखिम के बजाय डॉलर की मजबूती विदेशी निवेशकों की इस वापसी का मुख्य कारण रही है।

पिछले हफ्ते डॉलर के मुकाबले रुपया 83 रुपये से नीचे गिर गया था, जो इसका अब तक का सबसे निचला स्तर है।

FPI ने मुख्य रूप से वित्त, FMCG और IT क्षेत्रों में बिक्री की है। इक्विटी मार्केट के अलावा विदेशी निवेशकों ने भी अक्टूबर में डेट मार्केट से 1,950 करोड़ रुपये निकाले हैं।

Read More Storis